Hindi Grammar Pdf Book: हिंदी व्याकरण Notes Free Download

0
177

हेल्लो दोस्तों,

Hindi Grammar Pdf Book: किसी भी भाषा को शुद्ध रूप मे लिखने पढ़ने और बोलने के लिए कुछ नियम बनाए गए है जिसे हिन्दी मे  व्याकरण और अँग्रेजी मे ग्रामर कहा जाता है। या आप इसे ऐसे भी समझ सकते है – किसी भी भाषा के लिखने, पढ़ने और बोलने के निश्चित नियम होते हैं। भाषा की शुद्धता व सुंदरता को बनाए रखने के लिए इन नियमों का पालन करना आवश्यक होता है। ये नियम भी व्याकरण के अंतर्गत आते हैं। 

यदि आप किसी प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे हो तो व्याकरण का अध्ययन करना बहुत ही जरूरी हो जाता है विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओ मे जैसे SSC, Bank, Insurance, UPSC, MPSC Exam में हिन्दी व्याकरण से प्रश्न पुछे जाते है जिसका उदेश्य आपकी भाषा पर पकड़ और समझ को परखना होता है। तो इस आर्टिकल मे हम आपके साथ हिन्दी व्याकरण के महत्वपूर्ण नोट्स (Hindi Grammar PDF) शेअर कर रहे है जो आपको प्रतियोगी परीक्षाओ की तैयारी करने मे मदद करेंगे।

हिन्दी एक समृद्ध भाषा है जिसको सही रूप मे जानने समझे के लिए व्याकरण शास्त्र के नियमो को जानना आवश्यक है और इसी लिए ज़्यादातर प्रतियोगी परीक्षाओ मे हिन्दी व्याकरण से जुड़े विभिन्न प्रश्न संज्ञा, सर्वनाम, रस, छंद, अलंकार, संधि, समास, पर्यायवाची, विलोम, शुद्ध वाक्यो, लोकोक्ति आदि से प्रश्न पुछे जाते है।

Hindi Grammar PDF Download (हिन्दी व्याकरण PDF Book)

Book Nameहिन्दी व्याकरण Hindi Grammar PDF
QualityExcellent
FormatPDF
Compiled ByHindi topper
Pages178
Languageहिन्दी

हिन्दी व्याकरण क्या होता है ?

हिंदी व्याकरण, हिंदी भाषा को शुद्ध रूप में लिखने और बोलने संबंधी नियमों का बोध करानेवाला शास्त्र है। यह हिंदी भाषा के अध्ययन का महत्त्वपूर्ण अंग है। इसमें हिंदी के सभी स्वरूपों का चार खंडों के अंतर्गत अध्ययन किया जाता है;

यथा – वर्ण विचार के अंतर्गत ध्वनि और वर्ण, शब्द विचार के अंतर्गत शब्द के विविध पक्षों संबंधी नियमों, वाक्य विचार के अंतर्गत वाक्य संबंधी विभिन्न स्थितियों एवं छंद विचार में साहित्यिक रचनाओं के शिल्पगत पक्षों पर विचार किया गया है।

Hindi Grammar PDF Book Notes | हिन्दी व्याकरण पूर्ण नोट्स FREE Download

अधिकांश सरकारी नौकरी भर्ती परीक्षाओ मे हिन्दी व्याकरण के इन नीचे दिये गए विषयो से प्रश्न पूछे जाते है-

  • वर्ण (Sound) – हिन्दी व्याकरण
  • शब्द (Word): उत्पत्ति और प्रकार हिंदी व्याकरण
  • पद (Phrases): सार्थक शब्द हिन्दी व्याकरण
  • वाक्य (Sentence): सार्थक वाक्य हिंदी व्याकरण
  • विराम चिन्ह हिन्दी व्याकरण
  • संज्ञा (Noun) हिंदी व्याकरण
  • सर्वनाम (Pronoun) – हिन्दी व्याकरण
  • विशेषण  – हिन्दी व्याकरण
  • क्रिया  – हिंदी व्याकरण
  • क्रिया विशेषण  – हिन्दी व्याकरण
  • समुच्चय बोधक  – हिंदी व्याकरण
  • विस्मयादि बोधक  – हिंदी व्याकरण
  • संबंधबोधक  – हिन्दी व्याकरण
  • निपात (अवधारक) हिंदी व्याकरण
  • वचन  – हिंदी व्याकरण
  • लिंग  – हिन्दी व्याकरण
  • कारक  – हिन्दी व्याकरण
  • पुरुष  – हिंदी व्याकरण
  • उपसर्ग  – हिन्दी व्याकरण
  • प्रत्यय  – हिन्दी व्याकरण
  • अव्यय  – हिंदी व्याकरण
  • संधि  – हिन्दी व्याकरण
  • छन्द  – हिन्दी व्याकरण
  • समास  – हिन्दी व्याकरण
  • अलंकार  – हिन्दी व्याकरण
  • रस  – हिन्दी व्याकरण
  • विलोम शब्द  – हिंदी व्याकरण
  • तत्सम-तद्भव  – हिन्दी व्याकरण
  • पर्यायवाची शब्द  – हिंदी व्याकरण
  • अनेक शब्दों के लिए एक शब्द हिंदी व्याकरण
  • एकार्थक शब्द हिंदी व्याकरण
  • अनेकार्थक शब्द हिंदी व्याकरण
  • वर्तनी: शब्द एवं वाक्य शुद्धीकरण हिंदी व्याकरण
  • हिंदी में मुहावरे और लोकोक्तियाँ हिंदी व्याकरण
  • हिंदी की प्रमुख रचनाये : हिंदी व्याकरण
  • जीवन परिचय: प्रमुख साहित्यकार
  • पत्र लेखन : व्यक्तिगत या पारिवारिक पत्र, प्रार्थना-पत्र, शिकायती पत्र, निमन्त्रण पत्र, कार्यालयी पत्र, सामान्य सरकारी पत्र, निविदा, अधिसूचना, परिपत्र, अनुस्मारक, अर्द्धशासकीय पत्र, विज्ञप्ति, ज्ञापन, कार्यालय टिप्पणी, व्यावसायिक पत्र

हिन्दी व्याकरण को पढ़ने के लिए विभिन्न पुस्तकों की मदद ले सकते है कुछ पुस्तके जो प्रतियोगी परीक्षाओ के लिए आप प्रयोग कर सकते है नीचे दी गई है।

  • Hindi Vyakaran – उपकार पब्लिकेशन
  • Samanya Hindi – अरिहंत पब्लिकेशन
  • Lucents Samanya Hindi-  लूसेंट पब्लिकेशन

हिन्दी व्याकरण Hindi Grammar (FAQ)

Q. हिंदी व्याकरण के जनक कौन है?

Ans: हिन्दी व्याकरण के जनक श्री दामोदर पंडित जी को कहा जाता है। इन्होंने १२ वीं शताब्दी के उत्तरार्द्ध में एक ग्रंथ की रचना की थी जिसे ” उक्ति-व्यक्ति-प्रकरण ” के नाम से जाना जाता है । हिन्दी भाषा के पाणिनी ” आचार्य किशोरीदास वाजपेयी ” को कहा जाता है ।

Q. हिंदी का प्रथम व्याकरण कौन सा है?

Ans: बारहवीं सदी में प. दामोदर द्वारा लिखित ‘उक्ति व्यक्ति प्रकरण’ हिंदी का प्रथम व्याकरण ग्रंथ माना गया है।

Q. हिंदी का विकास प्रदान करने वाली भाषा कौन सी है?

Ans: हिन्दी की आदि जननी संस्कृत है। संस्कृत पालि, प्राकृत भाषा से होती हुई अपभ्रंश तक पहुँचती है। फिर अपभ्रंश, अवहट्ट से गुजरती हुई प्राचीन/प्रारंभिक हिन्दी का रूप लेती है। सामान्यतः हिन्दी भाषा के इतिहास का आरंभ अपभ्रंश से माना जाता है।

हमें उम्मीद है Hindi Grammar PDF Book कि जानकारी सरकारी परीक्षा को क्रैक करने में आपके लिए मददगार साबित होगी। सुनिश्चित करें कि आप इस स्थान पर आते रहें या दूसरे Topic के बारे में भी समय पर अपडेट प्राप्त करने के लिए इस पृष्ठ को बुकमार्क करें।


0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments