Mensuration Formula in Hindi PDF Download for competitive exams

0
221

हेल्लो दोस्तों,

Mensuration Formula in Hindi PDF Download:

Mensuration से संबंधित प्रश्न विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं जैसे SSC, रेलवे आदि में पूछे जाते हैं। इस पोस्ट में, हम आपको परीक्षाओं के लिए उपयोगी Mensuration Formula in Hindi नोट्स प्रदान कर रहे हैं। यह आपको बेसिक फार्मूला को याद करने में मदद करेगा।

इसे भी चेक करे: गणित के सभी सूत्र (All Math Formula In Hindi)

क्षेत्रमिति के सभी फार्मूला | Mensuration Formula in Hindi:

गणितीय ज्यामिति में, क्षेत्रमिति फार्मूला का महत्व सबसे अधिक है. एक गणितीय सर्वे के अनुसार प्रत्येक प्रकार के एग्जाम में ( कम्पटीशन, बोर्ड, सरकारी या गैर-सरकारी) Mensuration Formula in Hindi से सम्बंधित प्रश्न लगभग 45 % से अधिक होते है. इसलिए, ऐसे प्रश्नों को हल करने के लिए विशेष फार्मूला का प्रयोग करना अनिवार्य होता है.

हाल ही में हुए कुछ वार्षिक बोर्ड और कम्पटीशन एग्जाम में देखा गया है कि शंकु, बेलन, गोला, आयत, त्रिभुज, चतुर्भुज आदि जैसे ज्यामितीय आकृति से सम्बंधित अधिक प्रश्न पूछा गया है. जो दर्शाता है कि क्षेत्रमिति फार्मूला स्मरण होना कितना आवश्यक है.

आवश्यकता के अनुसार, क्षेत्रमिति से जुड़े लगभग सभी घटकों यानि आयतन, क्षेत्रफल, परिमाप आदि का विस्तृत अध्ययन यहाँ किया जाएगा. जो प्रश्न हल करने के साथ-साथ गणित में अपना पकड़ मजबूत कनरे में भी मदद करेंगे.

क्षेत्रमिति की परिभाषा | Definition of Mensuration in Hindi

ज्यामितीय क्षेत्रमिति गणित की एक ऐसी शाखा है जो मापन सम्बन्धित क्रियाओं को पूर्ण करती है. मापन में भी विशेष रूप से यह ज्यामितीय आकृतियों के क्षेत्रफल, आयतन, एवं परिमिति या परिमाप के सूत्रों की निष्पत्ति एवं उनके प्रयोग से सम्बन्ध रखती है.

यहाँ क्षेत्रमिति के कुछ प्रमुख घटक है जो इस प्रकार है.

परिमाप / परिधि: क्षेत्रमिति में परिमाप या परिधि एक ऐसी दुरी है जो रेखाखंडो से बनी आकृति के रेखाखंडो के साथ-साथ चलते हुए एक बंद आकृति बनाती है. अतः उस आकृति के चारों और चक्कर ही परिमाप कहलाता है. दुसरें शब्दों में, किसी आकृति के सभी भुजाओं की लंबाइयों का योग उस आकृति का परिमाप या परिमिति कहलाता हैं

क्षेत्रफल: किसी समतल या वक्रतल के द्वि-आयामी आकृति के परिमाण को क्षेत्रफल कहा जाता है. जिस क्षेत्र के क्षेत्रफल ज्ञात की जाए, वह क्षेत्र सामान्यतः किसी बन्द वक्र से घिरा होता है. क्षेत्रफल को हमेशा वर्ग इकाई में ही मापा जाता है.

आयतन: किसी त्रिविमीय आकृति द्वारा घिरा गया स्थान आयतन कहलाता है. किसी पदार्थ द्वारा घिरे हुए स्थान को लम्बाई, चौड़ाई एवं ऊँचाई में व्यक्त किया जाता है. आयतन को हमेशा घन इकाई में मापा जाता है.

Note:-
केवल त्रिविमीय आकृति के ही आयतन होते है. जैसे, बेलन, शंकु घन, घनाभ, गोला, छिन्नक आदि.

Mensuration formula in Hindi pdf Download मेंसुरेशन फार्मूला इन हिंदी PDF Download

विद्यार्थी गण अपने सुविधा के लिए मेंसुरेशन फार्मूला हिंदी और इंग्लिश का PDF Download भी यहाँ से कर सकते है. इस मेंसुरेशन फार्मूला PDF फाइल में हिंदी व इंग्लिश दोनों भाषावों का प्रयोग किया गया है.

मेंसुरेशन/क्षेत्रमिति सूत्र दो आयामी आकृतियों के लिए (Mensuration formula for two dimensional shapes in Hindi)

Mensuration Formula for 2D 3D in hindi
Mensuration Formula for 2D 3D in hindi

क्षेत्रमिति के सभी फार्मूला | Mensuration All Formula in Hindi

द्विविमीय आकृति जैसे आयत, वर्ग, समकोण त्रिभुज, समद्विबाहु त्रिभुज आदि के क्षेत्रफल और परिमाप एवं त्रिविमीय आकृती जैसे घन, घनाभ, बेलन, शंकु, गोला, शंकु आदि का आयतन, क्षेत्रफल एवं परिधि यहाँ विस्तृत रूप से शामिल है. जो गणित आपको उज्जवल भविष्य के ओर ले जाएगा.

वर्ग का फार्मूला

  • वर्ग की परिमाप = 4 × a
  • वर्ग का क्षेत्रफल = (भुजा × भुजा) = a²
  • एवं भुजा = √ क्षेत्रफल
  • वर्ग का क्षेत्रफल = ½ × (विकर्णो का गुणनफल) = ½ × d2
  • वर्ग का विकर्ण = एक भुजा × √2 = a × √2
  • वर्ग का विकर्ण = √2 × वर्ग का क्षेत्रफल

आयत का फार्मूला

  • आयत का परिमाप = 2(लम्बाई + चौड़ाई)
  • आयत का क्षेत्रफल = लंबाई ×चौड़ाई
  • आयत का विकर्ण =√(लंबाई² + चौड़ाई²)

समलम्ब चतुर्भुज का सूत्र

  • समलम्ब चतुर्भुज का क्षेत्रफल
    = ½ (समान्तर भुजाओं का योग x ऊंचाई)
    = ½ (समान्तर चतुर्भुज का क्षेत्रफल)
    = ½ (आधार x संगत ऊंचाई)
  • परिमाप, P = a + b+ c + d

सम चतुर्भुज का फार्मूला

  • ∠A + ∠B + ∠C + ∠D = 360°
  • विषमकोण चतुर्भुज का क्षेत्रफल = ½ × दोनों विकर्णो का गुणनफल
  • अर्थात, A = (d1 × d2)/2 वर्ग इकाई
  • समचतुर्भुज की परिमाप = 4 × एक भुजा
  • समचतुर्भुज में => (AC)² + (BD)² = 4a²

चक्रीय चतुर्भुज का फार्मूला

  • ∠A + ∠C = 180° 
  • ∠B + ∠D = 180°
  • क्षेत्रफल = √[s(s-a) (s-b) (s – c) (s – c)]
  • परिमाप, S = ½ ( a + b + c + d )

बहुभुज का फार्मूला

  • n भुजा वाले चतुर्भुज का अन्तः कोणों का योग = 2(n -2) × 90°
  • समबहुभुज के प्रत्येक अंतः कोण = (n – 2) / 2 × 180°
  • n भुजा वाले बहुभुज के बहिष्कोणों का योग = 360°
  • बहुभुज के कुछ अंतः कोणों का योग = (n – 2) × 180°
  • n भुजा वाले समबहुभुज का प्रत्येक अन्तः कोण = [2(n – 2) × 90°] / n
  • बहुभुज की परिमिति = n × एक भुजा
  • नियमित षट्भुज का क्षेत्रफल = 6 × ¼√3 (भुजा)²
  • n भुजा वाले समबहुभुज का प्रत्येक भहिष्यकोण = 360°/n
  • नियमित षट्भुज का क्षेत्रफल = 3√3×½ (भुजा)²
  • समषट्भुज की भुजा = परिवृत की त्रिज्या
  • नियमित षट्भुज की परिमति = 6 × भुजा
  • n भुजा वाले नियमित बहुभुज के विकर्णो की संख्या = n(n – 3)/2

वृत्त का फार्मूला

  • वृत्त का क्षेत्रफल = πr²
  • वृत्त का व्यास = 2r
  • वृत्त की परिधि = 2πr
  • वृत्त की परिधि = πd
  • वृत्त की त्रिज्या = √व्रत का क्षेत्रफल/π
  • वृताकार वलय का क्षेत्रफल = π (R2 – r2)
  • अर्द्धवृत्त की परिधि = ( π r  + 2 r )
  • अर्द्धवृत्त का क्षेत्रफल = 1/2πr²

त्रिज्याखण्ड एवं वृत्तखंड का फार्मूला

  • त्रिज्याखण्ड का क्षेत्रफल = θ/360° × πr²
  • चाप की लम्बाई = θ/360° × 2πr
  • त्रिज्याखण्ड की परिमिति = 2r + πrθ/180°
  • वृतखण्ड का क्षेत्रफल = (πθ/360° – 1/2 sinθ)r²
  • वृतखण्ड की परिमिति = (L + πrθ)/180° , जहाँ L = जीवा की लम्बाई

घन का फार्मूला

  • घन का आयतन = भुजा × भुजा × भुजा = a3
  • घन का परिमाप = 4 a²
  • पार्श्वपृष्ठ का एक किनारा = √ ( पार्श्वपृष्ठ का क्षेत्रफल / 4 )
  • घन का एक किनारा = 3√आयतन
  • घन का एक किनारा = √ (सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल / 6 )
  • घन के सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल = 6a²
  • घन का विकर्ण = √3 × भुजा

घनाभ का फार्मूला

  • घनाभ का आयतन =  l × b × h
  • घनाभ का परिमाप = 2(l + b) × h
  • घनाभ के सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल = 2(lb + bh + hl)
  • घनाभ का विकर्ण = √(l² + b² + h²)
  • घनाभ की ऊँचाई = आयतन / ( लम्बाई × चौड़ाई )
  • घनाभ की चौड़ाई = आयतन / ( लम्बाई × ऊँचाई )
  • कमरें के चारों दीवारों का क्षेत्रफल = 2h ( l + b )
  • ढक्कनरहित टंकी का क्षेत्रफल = 2h ( l + b ) + lb
  • छत या फर्श का क्षेत्रफल = लम्बाई × चौड़ाई

बेलन का फार्मूला

  • बेलन का आयतन = πr2h
  • बेलन की ऊँचाई = आयतन / πr2
  • लम्बवृतीय बेलन की त्रिज्या = √ ( आयतन / πh)
  • खोखले बेलन में लगीधातु का आयतन = πh (R2 – r2 )
  • बेलन का वक्रपृष्ठ का क्षेत्रफल = 2πrh
  • बेलन का सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल = 2πr ( h + r )
  • लम्बवृतीय बेलन की ऊँचाई = (बेलन का सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल / 2πr) – r
  • लम्बवृतीय बेलन का आधार का क्षेत्रफल =  πr2

शंकु का सूत्र

  • शंकु का आयतन = 1/3 πr2h
  • लम्बवृतीय शंकु की तिर्यक ऊँचाई = √ ( h2 + r2 )
  • शंकु की ऊँचाई = √ (l2 – r2 )
  • शंकु की आधार की त्रिज्या = √ (l2 – h2 )
  • शंकु के वक्र पृष्ठ का क्षेत्रफल = πrl
  • लम्बवृतीय शंकु के सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल = πr ( l + r )
  • शंकु का आधार का क्षेत्रफल = πr2

गोला का फार्मूला

  • गोले का वक्रपृष्ठ का क्षेत्रफल = 4πr2
  • गोला का आयतन = 4/3 πr3
  • गोलीय शेल का आयतन = 4/3 π ( R3 – r3 )
  • गोलीय शेल के सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल = 4/3 π ( R2 – r2 )
  • घन ने सबसे बड़े गोले का आयतन = 1/6 a3
  • घन में सबसे बड़े गोले का पृष्ठ क्षेत्रफल = πa2
  • गोले में सबसे बड़े घन की एक भुजा = 2R / √3
  • अर्द्ध गोला के वक्रपृष्ठ का क्षेत्रफल = 2 πr2
  • किसी अर्द्ध गोला के सम्पूर्ण पृष्ठ का क्षेत्रफल = 3 πr2
  • अर्द्ध गोला का आयतन = 2/3 πr3

समबाहु त्रिभुज का सूत्र

  • समबाहु त्रिभुजा का क्षेत्रफल = (√3)/4 × भुजा2
  • समबाहु त्रिभुज का शीर्षलम्ब = (√3)/4 × भुजा
  • परिमाप = 3 × भुजा

समद्विबाहु त्रिभुज का सूत्र

  • समद्विबाहु त्रिभुज का क्षेत्रफल, A = a / 4 b √ (4b² – a²)
  • समद्विबाहु त्रिभुज का शीर्षलम्ब = a / 4 b √ (4b² – a²)
  • परिमाप,  P = 2a + b

विषमबहु त्रिभुज का सूत्र

  • विषमबहु त्रिभुज का क्षेत्रफल, A =√ [ s(s – a)(s – b)(s – c) ]
  • दुसरें रूप में, A = ½ × आधार × ऊँचाई
  • अर्धपरिधि P = ½ ( a + b + c )

समकोण त्रिभुज का सूत्र

  • समकोण त्रिभुज का क्षेत्रफल,  A = ½ × आधार × ऊँचाई
  • समकोण समद्विबाहु त्रिभुज का परिमाप = (2 + √2) × भुजा
  • समकोण समद्विबाहु त्रिभुज का कर्ण = (√2) × भुजा
  • समकोण समद्विबाहु त्रिभुज का क्षेत्रफल = ½ × भुजा2

क्षेत्रमिति से सम्बंधित तथ्य

गणितीय ज्यामितीय क्षेत्रमिति में मापन के भौतिक राशि को परिमाण संख्याओं में व्यक्त किया जाता है. मापन प्रक्रिया मुख्यतः क्षेत्रफल, परिमाप आयतन आदि से किया जाता है. यहाँ Mensuration Formula in Hindi का सम्पूर्ण विवरण दिया गया है जो ज्यामितीय आकृति के प्रशों को हल करने में प्रयुक्त होता है. उम्मीद है यह पोस्ट आपके उम्मीद के मुताबिक सिद्ध होगा.

Mensuration Formula in Hindi PDF Download (FAQ)

Q. मेंसुरेशन में क्या क्या आता है?

Ans: क्षेत्रमिति (mensuration) गणित की एक शाखा है जो मापन से सम्बन्धित है। मापन में भी विशेष रूप से यह ज्यामितीय आकृतियों के क्षेत्रफल एवं आयतन के सूत्रों की निष्पत्ति (derivation) एवं उनके प्रयोग से सम्बन्ध रखती है।

Q. आयतन का सूत्र क्या होता है?

Ans: गोले के आयतन का सूत्र V = 4/3 πr³ है। एक उदाहरण में सूत्र का प्रयोग किया गया है जहाँ हमें गोले का व्यास दिया गया है।

Q. क्षेत्रमिति में कौन कौन से टॉपिक आते हैं?

Ans: क्षेत्रमिति के सभी फार्मूला | Mensuration All Formula in Hindi. द्विविमीय आकृति जैसे आयत, वर्ग, समकोण त्रिभुज, समद्विबाहु त्रिभुज आदि के क्षेत्रफल और परिमाप एवं त्रिविमीय आकृती जैसे घन, घनाभ, बेलन, शंकु, गोला, शंकु आदि का आयतन, क्षेत्रफल एवं परिधि यहाँ विस्तृत रूप से शामिल है. जो गणित आपको उज्जवल भविष्य के ओर ले जाएगा.

Q. आयतन और क्षेत्रफल क्या है?

Ans: आयतन —- किसी वस्तु के अंदर किसी पदार्थ को धारण करने की क्षमता को आयतन कहते हैं। इसमेें वस्तु की लंबाई, चौड़ाई और उंचाई की गुणा करने से आयतन ज्ञात होता है। छेत्रफल—- किसी निश्चित सीमा में आने वाले स्थान को जिस की लंबाई और चौड़ाई दी गई हो क्षेत्रफल कहते हैं। लंबाई और चौड़ाई की गुणा करने से क्षेत्रफल प्राप्त होता है।

हम आशा करते हैं कि आपको यह Mensuration Formula in Hindi पोस्ट पसंद आई है तो हमे सपोर्ट करने के लिए और बाकि लोगो की मदद के लिए इस पोस्ट को  फेसबुक, व्हाट्सप्प, टेलीग्राम एंड अधिक से अधिक लोगो तक शेयर करे।

मजा आया ना…!!! धन्यवाद! 


0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments